You are here
Home > Jharkhand > रसोईया संयोजिका यूनियन (सीटू) का सम्मेलन 22 सितम्बर को

रसोईया संयोजिका यूनियन (सीटू) का सम्मेलन 22 सितम्बर को

विद्यालय रसोइया को 10 माह से मानदेय नहीं देना अन्यायपूर्ण कदम – संजय पासवान

कोडरमा – विद्यालय रसोईया संयोजिका यूनियन (सीटू) की ज़िला स्तरीय बैठक अनीता सिंह व बबीता देवी की संयुक्त अध्यक्षता में हुई। जबकि संचालन संध्या पाण्डेय व मुन्नी देवी ने किया। बैठक में रसोइया संयोजिका की समस्याओं पर चर्चा और आंदोलन तय करने के लिए 22 सितंबर को जिला स्तरीय सम्मेलन करने का निर्णय लिया गया। बैठक को संबोधित करते हुए सीटू राज्य कमिटी सदस्य संजय पासवान ने कहा कि कोरोना काल और लॉक डाउन मे जब लोग आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं और गरीब परिवारों का जीना मुश्किल हो गया है। वैसे समय में स्कूलों में सैकड़ों बच्चों का खाना बनाने वाली महिलाओं जिन्हें मात्र दो हज़ार रुपये मिलता है, को नवंबर 2020 से मानदेय बकाया है। गरीब महिलाओं को 10 माह से मानदेय नहीं देना दुर्भाग्यपूर्ण व अन्यायपूर्ण कदम है। एक तरफ़ मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण महंगाई बेलगाम है, जिसके कारण आम लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। ऐसे समय में न्यूनतम मज़दूरी भी इन्हें नहीं दिया जा रहा है। दूसरी तरफ विद्यालय संयोजिका जिन्हें बच्चों का भोजन बनने से लेकर भोजन कराने तक की जिम्मेवारी है, उन्हें एक रूपये भी मानदेय नहीं दिया जा रहा है, जो मानवता के खिलाफ़ है। मज़दूर कर्मचारी समन्वय समिति के ज़िला सचिव दिनेश रविदास ने कहा कि भाजपानीत मोदी सरकार के द्वारा मज़दूर कर्मचारियों के अधिकार को कुचलकर नए श्रम कोड संहिता मे बदलकर काम के घण्टे 8 से बढ़ाकर 12 घण्टे करने जा रही है। इतना ही नहीं मालिक कभी भी बिना कारण के मजदूरों को काम से हटा सकती है। इसलिए मजदूर वर्ग को एक होना होगा। यूनियन के संयोजक और सीटू नेता महेन्द्र तुरी ने कहा कि समान काम का समान वेतन के लिए संघर्ष को तेज करना होगा। बैठक में रेखा देवी, मुनेजा खातून, सुमित्रा देवी, रीना देवी, मुनिया देवी, यशोदा देवी, शान्ति देवी, विमला देवी, रेखा देवी, सुनीता देवी, छाया देवी, किरण देवी, मालती, चंचला, बसंती, फरेरा खातून, मृदुला, गुड़िया, कुंती, सीता, शीला उषा, प्रमीला, अंजु, शहनाज खातून, उर्मिला, कौशल्या, सविता, देवंती, चिन्ता, गीता, पार्वती, सरीता, राजकुमारी, मालती, संतोषी देवी सहित बड़ी संख्या में रसोईया संयोजिका मौजूद थी।

Top