You are here
Home > Jharkhand > अबरख नगरी में कोरोना संक्रमण के ख़िलाफ़ “जनता कर्फ्यू” सड़को से लेकर बाज़ार में पसरा रहा सन्नाटा

अबरख नगरी में कोरोना संक्रमण के ख़िलाफ़ “जनता कर्फ्यू” सड़को से लेकर बाज़ार में पसरा रहा सन्नाटा

कोडरमा। देश मे जब गिरती विधि व्यवस्था कंट्रोल करनी होती है तो कर्फ्यू लगा दी जाती है। कर्फ्यू से कुछ दिनों में हालात सामान्य हो जाती है। कर्फ्यू शब्द दिमाग मे आतें ही वो तश्वीरें भी सामने आने लगती है,जिसमे सड़क, बाजार, भीड़भाड़ इलाक़ा में सन्नाटा पसरा होता है। पुलिस का पहरा और हर चौक-चौराहों पर पुलिस बल की तैनाती होती है। लेकिन इसबार देशभर में कर्फ्यू की घोषणा की गई, लेकिन इसे जनता कर्फ्यू का नाम दिया गया। वजह बनी वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के चैन को तोड़ना । ताकि भारत मे फेज-।। स्तर में पहुंच चुकी कोरोना वायरस के प्रभाव को सामुदायिक संपर्क से फैलने से रोका जा सके। भारत मे अभी तक दूसरे देश से आनेवाले लोगों(विदेशी व भारतीयों) में ही कोरोना का संक्रमण पॉजिटिव पाया गया है। कोरोना संक्रमण सामुदायिक कनेक्टिविटी से अगली कड़ी में प्रवेश नही कर पाए। इसके लिए भारत सरकार ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था। जनता ने सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर एकजुटता प्रदर्शित करते हुए “जनता कर्फ्यू” के तहत घरों में रहकर ” कोरोना के ख़िलाफ़ जागरूकता अभियान को सफल बनाया।

सड़को से लेकर बाज़ार,गली, मुहल्लों में पसरा रहा सन्नाटा

अबरख नगरी में “जनता कर्फ्यू” को लेकर 21 मार्च से ही सड़को पर वाहनों की कतार पर ब्रेक लग गयी थी। देर रात के बाद से सड़कों पर वाहनों की संख्या काफी कम हो गई। रविवार की सुबह से सड़कों पर वाहनों की रफ्तार के साथ संख्या भी नगण्य रही। जिस कारण सड़को पर सन्नाटा देखा गया। रिक्शा, ऑटो से लेकर टोटो,ठेला नदारद रहे। बस स्टैंड, ऑटो स्टैंड खाली खाली नजर आया। हालांकि बाइक सवार व निजी वाहनों से इक्के दुक्के लोग इमरजेंसी में बाहर निकले। वहीं बाज़ार और गली मुहल्ले की सभी दुकानें,गुमटी, ठेला बंद रही। शहर से लेकर गांव तक एक ही नजारा “सन्नाटा ही सन्नाटा”पसरा रहा।

घरों में रहे लोग,परिवार के साथ बिताया पल

जनता कर्फ्यू के दिन कोडरमा जिले के लाखों लोगों ने घरों में समय बिताया। सरकार व स्थानीय प्रशासन के द्वारा किये गए आह्वान के बाद जनता कर्फ्यू के गाइड लाइन का पालन करते हुए लोगों ने सामुदायिक कनेक्टिविटी से किनारा कर अपने परिवार संग समय बिताया। घरों में रहने वाले लोगों ने टीवी देख मनोरंजन किया तो कइयों ने संगीत के जरिये सुर ताल में लीन रहे। साथ ही कई लोग सोशल मीडिया में एक्टिव रहे।

मुबई समेत अन्य प्रदेशों से लौटे लोगो को हुई परेशानी


कोडरमा स्टेशन पर रेल मार्ग से मुबई समेत अन्य जगहों कोडरमा पहुंचे लोगों को भारी परेशानियों का सामना जनता कर्फ्यू को लेकर करना पड़ा। अपने अपने गांव लौटने के लिए कोडरमा रेलवे स्टेशन के समीप बस स्टैंड पर भूखे प्यासे इधर उधर भटकते नजर आए। घंटो इंतज़ार के बाद बड़ी मुश्किल से एक बस मिली,जिसमें मजबूरी में बस के छत पर बैठकर सफर करना पड़ा। इसके पूर्व स्टेशन पर मेडिकल कैम्प के द्वारा दिशा निर्देश दिया गया। हालांकि बड़ी संख्या में लोग महानगरों से लौट रहे है, जिसके कारण लोगों में संक्रमण का खतरा भय सता रहा है।

स्वास्थ्य कर्मी व सुरक्षा में जुटे कर्मियों के हौशला बढ़ाने के बजी थाली-ताली

कोरोना वायरस के संक्रमण के रोकथाम में जुटे स्वास्थ्य व सुरक्षा कर्मी को आभार व्यक्त करने को लेकर पीएम मोदी के आह्वान को लोगों का भरपूर समर्थन मिला। 5 बजते ही लोगों ने घर की खिड़की, बालकोनी, छत पर आकर संखनाद, ताली, थाली, घंटी बजाई। कोडरमा जिले के हर  इलाके में ताली-थाली पीटकर लोगों ने स्वास्थ्य व सुरक्षा कर्मियों के प्रति आभार जताया। इधर पूर्व शिक्षा मंत्री सह कोडरमा विधायक डॉ नीरा यादव ने अपने कोडरमा आवास पर परिजन के साथ घंटी बजाया।

Top