You are here
Home > Jharkhand > CAA-NRC-NPR के विरोध में “आधी आबादी” का धरना जारी, महिलाओं नें दिखाई एकता

CAA-NRC-NPR के विरोध में “आधी आबादी” का धरना जारी, महिलाओं नें दिखाई एकता

झुमरी तिलैया । संविधान बचाओ बैनर तले सीएए व एनआरसी,एनपीआर के खिलाफ महिलाओं का अनिश्चितकालीन धरना सोमवार को असनाबाद मे जारी रहा। धरना में काफी संख्या में महिलाएं इकट्ठा हुए। धरना स्थल पर बनी कैंप में एकजुट महिलाओं ने नए कानून एवं एनआरसी,एनआरपी का विरोध किया। साथ ही विरोध कर रहे महिलाओं द्वारा बताया गया कि नागरिकता समाप्त हो जाने के बाद लोगों को अपने ही देश में किस तरह से रहना पड़ेगा।

अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव क्यो – नाज़

महिला नाज ने बताया कि इस कानून में जब सभी धर्मों को नागरिकता मिल रही है। तो अल्पसंख्यकों के साथ ऐसा भेदभाव बर्ताव क्यों किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मैं सरकार से पूछना चाहती हूं कि देश के आजादी के समय क्या मुस्लिमों का कोई योगदान नहीं था और अगर था। तो ऐसा बर्ताव क्यों क्या जा रहा है। क्यों हमसे हमारी देश की नागरिकता पूछी जा रही है। हमसे हमारी नागरिकता छीनने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक सरकार यह नया कानून वापस नहीं लेती, हम लोग का धरना जारी रहेगा।

बेसिक मुद्दों को छुपाने का कार्य सरकार कर रही-फरजाना

फरजाना खातून ने सरकार से इस कानून को वापस लेने की गुहार लगाते हुए कहा कि सरकार अब देशवासियों को परेशान करने में लगी है। जो देश का बेसिक मुद्दा है। जहां जनता बेरोजगारी भ्रष्टाचार जैसे कई मुद्दे से परेशान है। उन मुद्दों को छुपाने का यह सरकार कार्य कर रही है। सीएए और एनआरसी,एनपीआर पर देश को बांटने का काम सरकार कर रही है। हिंदुस्तान अमन चैन शांति का प्रतीक पूरे विश्व में माना जाता है उस देश के माहौल को खराब करने का काम इन मुद्दों को लाकर सरकार ने किया है।

संविधान मानने वालों से आज़ादी छीनी जा रही-सुरैया

छात्रा सुरैया ने बताया कि हम लोग संविधान को मानने वाले हैं और जब हम देश के संविधान को मान रहे हैं तो फिर हमसे हमारी आजादी क्यों छीनी जा रही है। क्यों अपने ही देश में हमें बेगाना समझा जा रहा है। उन्होंने कहा हम इस देश के नागरिक है। देश के तिरंगे को सम्मान देते हैं तो ऐसे में हमें अपनी पहचान देने की जरूरत नहीं है।

मोदी जी पर यकीं, हमारी बात सुनेंगे-सबीहा

सबीहा खातून ने कहा कि देश मे लाया गया काला कानून को वापस लेना होगा। उन्होंने। देश के प्रधानमंत्री मोदी पर विश्वास जताया और कहा कि हमारी आवाज मोदी जी सुनेंगे और उस पर विचार करेंगे। मौके पर सगीरा खातुन, जोहरा खातून, रानी देवी, समाया परवीन, नगमा परवीन, शारदा देवी, सबिया बेगम, सईदा खातून, अफसाना खातून, मेहरून्निसा, साजदा खातून, शबनम परवीन , नजमा खातून, आयशा खातून, जेबुन्निसा सहित सैकड़ों महिलाएं मौजूद

Top